Friday 19 November 2010

मेरी कवितायेँ


लिखे जाने से भले ही
कुछ फर्क न पड़ता हो
लेकिन न लिखे जाने से
सचमुच बहुत फर्क पड़ता है...

No comments:

Post a Comment