Friday, 26 November, 2010

खरगोश बनाम बिल्ली

सरलता और कोमलता में सौन्दर्य है आकर्षण है
जैसे खरगोश में |
किन्तु हम पसंद करते है
बिल्ली होना |
सरलता और कोमलते के जो खतरे है
खरगोश जिनसे रहता है सदैव भयभीत
वे बिल्ली होने में नहीं है |
अब हमें तय यह करना है कि यह दुनिया
बिल्लियों कि होनी चाहिए या खरगोशों कि |

No comments:

Post a Comment