Friday 17 December 2010

योरोपीय संस्कृति की खिड़की रोम



रोम को देखना इतिहास सीधे बात करना है |रोम का स्थापत्य सौंदर्य और इतिहास वहां की गलियों में देखने को मिल
जाये गा |रोमवासियों का सहस ,धैर्य और संकल्प शक्ति काबिले तारीफ है |एक समय रोमन साम्राज्य पूरे योरूप में
फैला हुआ था ,जिसके अवशेष आज भी देखने को मिलते है |मइएकेल अन्जेलो की मूर्ति कला और चित्रकला रोम की
आत्मा में वसति हँ | रोमनिवासी सरल ,आत्मीय और कला प्रेमी है |आश्चर्य होता है की आपा-धापी के इस दौर में
भी उनके पास कला को देखने और समझाने का पर्याप्त समाया है |इससे सुखद और क्या हो सकता है |

No comments:

Post a Comment